Advertisement


Is Deewane Ladke Ko

Sarfarosh (1999)

Movie: Sarfarosh
Year: 1999
Director: John Matthew Matthan
Music: Jatin-Lalit
Lyrics: Sameer
Singers: Alka Yagnik, Aamir Khan

Male:
अर्ज़ है दावा भी काम ना आये कोई दुआ ना लगे
दावा भी काम ना आये कोई दुआ ना लगे
मेरे खुदा, किसी को प्यार की हवा ना लगे

Female:
इस दीवाने लड़के को कोई समझाए
प्यार मोहब्बत से ना जाने क्यों ये गबराये

इस दीवाने लड़के को कोई समझाए
प्यार मोहब्बत से ना जाने क्यों ये गबराये
दर्द-ए-दिल जाने ना
पास मैं जितना आऊं, उतनी दूर ये जाये
जाये, हाँ जाये
इस दीवाने लड़के को कोई समझाए
प्यार मोहब्बत से ना जाने क्यों ये गबराये

रंग ना देखे, रूप ना देखे
ये जवानी की धुप ना देखे

Male:
अर्ज़ है, कुछ मजनू बने, कुछ रांझा बने
कुछ रोमियो, कुछ फरहाद हुए
इस रंग रूप की चाहत में
जाने कितने बर्बाद हुए

Female:
इश्क़ में इसके बावरी हूँ मैं
ये भला है तो, क्या बुरी हूँ मैं
ये लड़का, है फिर भी
जाने क्यों शरमाये
जाने क्यों शरमाये, हाय शरमाये
इस दीवाने लड़के को कोई समझाए
प्यार मोहब्बत से ना जाने क्यों ये गबराये

जानती हूँ मैं, ये तड़पता है
प्यार में इसका दिल धड़कता है

Male:
जिसे देखो दिल की धुनि रमाता है
अरे ये मंदिर नहीं है, शिवाला नहीं है
हसीनो से केह दो कहीं और जाए
मेरा दिल है दिल, धरमशाला नहीं है

Female:
ये अकेले में आह भरता है
फिर भी केहने से ये क्यों डरता है
सच कुछ भी बोले ना झूठी बात बनाये
झूठी बात बनाये, हाँ बनाये
इस दीवाने लड़के को कोई समझाए
प्यार मोहब्बत से ना जाने क्यों ये गबराये
दर्द-ए-दिल जाने ना
पास मैं जितना आऊं, उतनी दूर ये जाये
जाये, हाँ जाये
इस दीवाने लड़के को कोई समझाए
प्यार मोहब्बत से ना जाने क्यों ये गबराये

Male:
फूल खिलते है बहारों का समां होता है
ऐसे मौसम में ही तो प्यार जवां होता है
दिल की बातों को होठों से नहीं केहते
ये फ़साना तो निगाहों से बयां होता है

Male:
Arz hai, dawa bhi kaam naa aaye koi dua naa lage
Dawa bhi kaam naa aaye koi dua naa lage
Mere khuda kisi ko pyar ki hawa naa lage

Female:
Is deewane ladke ko koi samjhaaye
Pyar mohabbat se naa jaane kyun ye gabraaye

Is deewane ladke ko koi samjhaaye
Pyar mohabbat se naa jaane kyun ye gabraaye
Dard-e-dil jaane naa
Paas main jitna aaon, utni door ye jaaye
Jaaye, haan jaaye
Is deewane ladke ko koi samjhaaye
Pyar mohabbat se naa jaane kyun ye gabraaye

Rang naa dekhe, roop naa dekhe
Ye jawani ki dhoop naa dekhe

Male:
Arz hai, kuch majnu bane, kuch raanjha bane
Kuch romeo, kuch farhaad huye
Is rang roop ki chahat mein
Jaane kitne barbaad huye

Female:
Ishq mein iske baawri hoon main
Ye bhalaa hai to, kya buri hun main
Ye ladka, hai phir bhi
Jaane kyun sharmaye
Jaane kyun sharmaye, haye sharmaye
Is deewane ladke ko koi samjhaaye
Pyar mohabbat se naa jaane kyun ye gabraaye

Jaanti hun main, ye tadapta hai
Pyar mein iska dil dhadakta hai

Male:
Jise dekho dil ki dhuni ramata hai
Arey ye mandir nahi hai, shivala nahi hai
Haseeno se keh do kahin aur jaaye
Mera dil hai dil, dharamshala nahi hai

Female:
Ye akele me aah bharta hai
Phir bhi kehne se yeh kyun darta hai
Sach kuch bhi bole na jhuthi baat banaye
Jhuthi baat banaye, haan banaye
Is deewane ladke ko koi samjhaaye
Pyar mohabbat se naa jaane kyun ye gabraaye
Dard-e-dil jaane naa
Paas main jitna aaon, utni door ye jaaye
Jaaye, haan jaaye
Is deewane ladke ko koi samjhaaye
Pyar mohabbat se naa jaane kyun ye gabraaye

Male:
Phool khilte hai baharo ka sama hota hai
Aise mausam mein hi to pyar jawan hota hai
Dil ki baato ko hothon se nahi kehte
Ye fasana to nigahon se bayan hota hai

Other songs from Sarfarosh (1999)


Advertisement


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Do NOT follow this link or you will be banned from the site!
%d bloggers like this: