Advertisement


Chup Chup Ke

Bunty Aur Babli (2005)

Movie: Bunty Aur Babli
Year: 2005
Director: Shaad Ali
Music: Shankar-Ehsaan-Loy
Lyrics: Gulzar
Singers: Sonu Nigam, Mahalakshmi Iyer

 

देखना मेरे सर से
आसमान उड़ गया हैं
देखना मेरे सर से
आसमान उड़ गया हैं
देखना आस्मां के सिरे खुल गए हैं ज़मीं से
देखना आस्मां के सिरे खुल गए हैं ज़मीं से
चुप चुप के, चुप चुप के चोरी से चोरी
चुप चुप के, चुप चुप के रे
चुप चुप के, चुप चुप के चोरी से चोरी
चुप चुप के, चुप चुप के रे
चुप चुप के, चुप चुप के चोरी से चोरी
चुप चुप के, चुप चुप के रे

देखना क्या हुआ हैं
ये ज़मीन बेह रही हैं
देखना पानियों मैं ज़मीन घुल रही हैं कही
देखना आस्मां के सिरे खुल गए हैं ज़मीं से
चुप चुप के, चुप चुप के चोरी से चोरी
चुप चुप के, चुप चुप के रे
चुप चुप के, चुप चुप के चोरी से चोरी
चुप चुप के, चुप चुप के रे

होश में मैं नहीं
ये गशी भी नहीं
इस सदी में कभी
ये हुआ भी नहीं
जिस्म घुलने लगा
रूह गलने लगी
पाओं रुकने लगे
राह चलने लगी
आसमाँ बादलों पर
करवटें ले रहा हैं
देखना आसमान ही बरसने लगे ना ज़मीन पे
यह ज़मीन कॉनमिलन के डुबकिया ले रही हैं
देखना उठके कंधो पे चलने लगी ना कहीं
चुप चुप के, चुप चुप के चोरी से चोरी
चुप चुप के, चुप चुप के रे
चुप चुप के, चुप चुप के चोरी से चोरी
चुप चुप के, चुप चुप के रे

तुम कहो तो रुकें
तुम कहो तो चलें
ये जूनूँ हैं अगर
तो जूनूँ सोच ले
तुम कहो तो रुके
तुम कहो तो चले
मुझको पेहेचानती
है कहा मंज़िलें
देखना मेरे सर से
आसमान उड़ गया हैं
देखना आस्मां के सिरे खुल गए हैं ज़मीं से
देखना क्या हुआ हैं
ये ज़मीन बह रही हैं
देखना पानियों मैं ज़मीन घुल रही हैं कही से
चुप चुप के, चुप चुप के चोरी से चोरी
चुप चुप के, चुप चुप के रे
चुप चुप के, चोरी से चोरी
चुप चुप के रे
चुप चुप के, चोरी से चोरी
चुप चुप के रे

बंटी की बबली और बबली का बंटी
बंटी की बबली हुई
बंटी की बबली और बबली का बंटी
बंटी की बबली हुई

dekhana mere sar se
aasamaan ud gaya hain
dekhana mere sar se
aasamaan ud gaya hain
dekhana aasmaan ke sire khul gae hain zamin se
dekhana aasmaan ke sire khul gae hain zamin se
chup chup ke, chup chup ke chori se chori
chup chup ke, chup chup ke re
chup chup ke, chup chup ke chori se chori
chup chup ke, chup chup ke re
chup chup ke, chup chup ke chori se chori
chup chup ke, chup chup ke re

dekhana kya hua hain
ye zamin beh rahi hain
dekhana paaniyon main zamin ghul rahi hain kahi
dekhana aasmaan ke sire khul gae hain zamin se
chup chup ke, chup chup ke chori se chori
chup chup ke, chup chup ke re
chup chup ke, chup chup ke chori se chori
chup chup ke, chup chup ke re

hosh mein main nahin
ye gashi bhi nahin
is sadi mein kabhi
ye hua bhi nahin
jism ghulane laga
rooh galane lagi
paon rukane lage
raah chalane lagi
aasamaan baadalon par
karavaten le raha hain
dekhana aasamaan hi barasane lage na zamin pe
yah zamin konamilan ke dubakiya le rahi hain
dekhana uthake kandho pe chalane lagi na kahin
chup chup ke, chup chup ke chori se chori
chup chup ke, chup chup ke re
chup chup ke, chup chup ke chori se chori
chup chup ke, chup chup ke re

tum kaho to ruken
tum kaho to chalen
ye joonoon hain agar
to joonoon soch le
tum kaho to ruke
tum kaho to chale
mujhako pehechaanati
hai kaha manzilen
dekhana mere sar se
aasamaan ud gaya hain
dekhana aasmaan ke sire khul gae hain zamin se
dekhana kya hua hain
ye zamin bah rahi hain
dekhana paaniyon main zamin ghul rahi hain kahi se
chup chup ke, chup chup ke chori se chori
chup chup ke, chup chup ke re
chup chup ke, chori se chori
chup chup ke re
chup chup ke, chori se chori
chup chup ke re

bunty ki babali aur babali ka bunty
bunty ki babali hui
bunty ki babali aur babali ka bunty
bunty ki babali hui

Other songs from Bunty Aur Babli (2005)


Advertisement


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Do NOT follow this link or you will be banned from the site!
%d bloggers like this: